हमारे देश में जिस तरह एक डॉक्टर , इंजीनियर, साइंटिस्ट बनना एक गर्व की बात होती है! ठीक उसी तरह एक Advocate अर्थात “वकील” बनना बेहद सम्मानजनक होता है! इसलिए कई छात्र बचपन से ही एडवोकेट बनने का सपना देखते हैं तथा उसे पूरा करने के लिए तैयारी करते हैं!

अक्सर हम T. V समाचारों, एवं फिल्मों के माध्यम से एडवोकेट के बारे में सुनते हैं! परंतु असल में हमें यह पता नहीं होता कि आखिर कैसे कोई व्यक्ति एडवोकेट बन सकता है?

दोस्तों क्या आप भी एक अच्छे एडवोकेट बनकर देश की सेवा करना चाहते हैं! तो आपको अभी से एडवोकेट  बनने की सही एवं पूरी जानकारी होनी चाहिए।

यदि आप भी एडवोकेट बनना चाहते हैं तो आज का यह लेख आपको अंत तक पढ़ना चाहिए! क्योंकि आप इस लेख में जानेंगे कि एक एडवोकेट बनने के लिए कौन-कौन सी पढ़ाई करनी होती है?advocate बनने के लिए योग्यताएं जैसे की- शिक्षा, उम्र तथा किन-किन चीजों का ज्ञान होना जरूरी है। इसके साथ ही आपको step-by-step एडवोकेट बनने की प्रक्रिया बताई जाएगी! सबसे पहले हम जानते हैं कि

वकील कौन होता  है?इसका क्या कार्य होता है! 

एक वकील सार्वजनिक रूप से किसी भी मुद्दे या कारण का समर्थन करता है! तथा कानूनी प्रणाली में वह अपने Customer का प्रतिनिधित्व करता है। किसी भी लोकतांत्रिक देश की कानूनी प्रणाली में वकील का होना बेहद महत्वपूर्ण होता है। क्योंकि वह मामले की प्रस्तुति के लिए अपने तर्कों, दलीलों के माध्यम से पीड़ित को न्याय दिलाने में सहायक होता है।

दोस्तों इसे आप इस तरह समझ सकते हैं कि एक वकील के हाथ में किसी भी मामले को पलटने की शक्ति होती है। और किसी देश की न्याय पालिका में वकील की महत्वपूर्ण भूमिका होने की वजह से इसे “न्यायालय का अधिकारी” भी कहा जाता है।

Advocate कैसे बनें?

दोस्तों भारत में एडवोकेट बनने के लिए उम्मीदवार  के पास Law की बैचलर डिग्री होनी चाहिए! आपका यह जानना जरूरी है बैचलर डिग्री 3 या 5 साल की हो सकती है। 

अभी हम विस्तारपूर्वक Law of Bachelor डिग्री कोर्स जिसे LLB भी कहा जाता है! जिसके बारे में आपने अक्सर जरूर सुना होगा! वकील बनने के लिए LLB की डिग्री होंना जरूरी होता है! अभी हम विस्तारपूर्वक llb की पढ़ाई की जानकारी लेंगे! परंतु उससे पहले हमारा यहां जानना जरूरी हो जाता है कि एडवोकेट बनने के लिए क्या-क्या योग्यताएं होनी चाहिए।

एडवोकेट/वकील बनने की योग्यताएं !

◆ उम्मीदवार भारत का नागरिक होना चाहिए!

हालाँकि हमारे देश में कोई भी विदेशी व्यक्ति भी Law की पढ़ाई कर सकता है! परंतु यदि उस व्यक्ति के देश में भी भारत के लोगों को Advocate की पढ़ाई करने का अधिकार हो!

◆वकील बनने के लिए सबसे पहले आपका 12 वीं पास होना जरूरी है तभी आप वकालत की पढ़ाई कर सकते हैं!

वकील बनने के लिए आपका 12th में अच्छे अंको से पास होना जरूरी है कम से कम 50% जरूर होने चाहिए।

◆वकील बनने के लिए उम्मीदवार के पास बैचलर of law डिग्री होनी चाहिए!

यदि आप 12th पास हैं तथा आपके पास भी उपरोक्त योग्यताएं हैं! तो आप एक वकील बन सकते हैं। तो दोस्तों वकील बनने के लिए जैसा कि आपने जाना law of बैचलर डिग्री होनी चाहिए तो आइए जानते हैं।

Law of Bachelor Degree/ LLB कोर्स कैसे करें? उसकी पूरी जानकारी!

LLB डिग्री 3 एवं 5 साल की होती है!

3 year course

दोस्तों तीन साल की इस law of Bachelor डिग्री पाने के लिए ग्रेजुएशन करना आवश्यक है! आप 12वीं के बाद B.A, b.tech इत्यादि किसी भी सब्जेक्ट से ग्रेजुएशन कर सकते हैं!  और आपका यह जानना जरूरी है कि यदि आपके ग्रेजुएशन की डिग्री  में 50 प्रतिशत marks हैं तभी आप तीन साल के इस LLB कोर्स की पढ़ाई कर सकते हैं।

5 years course

दोस्तों इस course को उम्मीदवार 12th पास होने के बाद ही शुरू कर सकते है! तथा इस कोर्स को करने के लिए 12th में 50% अंक होने चाहिए तभी आप LLB के लिए एक लोकप्रिय एग्जाम अर्थात Entrance परीक्षा दे सकते हैं!

इसके लिए बारहवीं के बाद आपको CLAT नामक इस popular एंट्रेंस एग्जाम को clear करना होता है! Clat की फुल फॉर्म “Common Law Admission Test” होती है!

और यदि उम्मीदवार इस एंट्रेंस एग्जाम को क्लियर कर देते हैं तो आप किसी भी Law कॉलेज में एडमिशन लेकर llb की पढ़ाई कर सकते हैं! तथा bechelor of Law/ LLB की डिग्री पा सकते हैं!

दोस्तों अब आप अपनी इच्छानुसार तथा योग्यताओं के अनुरूप 3 या 5 साल के किसी भी LLB कोर्स को  कर वकील बन सकते हैं!

LLB Course Details 

लॉ या LLB Ki Padhai करने के लिए आपको कौन से कोर्स की पढ़ाई करनी होगी या इसमें कौन से एलएलबी विषय होते है इसके बारे में आपको आगे बताया गया है:

Corporate Law !

Corporate Law में Corporate की Field में होने वाले अपराधों के लिए नियम और कानून की पढ़ाई की जाती है। Corporate Law से Corporate Sector में होने वाले अपराधों को रोकने के लिए तथा वित्त परियोजना, टैक्स लाइसेंस और संयुक्त स्टॉक से संबंधित काम किये जाते है।

Criminal Law !

यह सबसे मुख्य कानून होता है। इस Law की पढ़ाई सभी छात्रों को करनी होती है। इसकी पढ़ाई से ही कानून और अपराध को रोकने की जानकारी प्राप्त होती है।

Patent Attorney !

इसमें यदि कोई व्यक्ति किसी वस्तु पर अपना पूर्ण अधिकार रखता है तो उसकी मर्ज़ी के बिना कोई अन्य व्यक्ति उस अधिकार का प्रयोग नहीं कर सकता है।

Cyber Law !

आजकल साइबर क्राइम सबसे ज्यादा बढ़ गया है। इस कानून में साइबर क्राइम से जुड़े मुद्दों पर कानून जानकारी दी जाती है की उनसे कैसे निपटा जाये और उनके लिए सजा का क्या प्रावधान है।

Family Law !

यह महिलाओं के लिए उपयुक्त होता है इस Law के अंतर्गत तलाक, गोद लेने, शादी, पर्सनल लॉ तथा सभी तरह के पारिवारिक मामले आते है। परिवार के मामलों को सुलझाने के लिए हर राज्य के सभी जिलों में परिवार न्यायालय (Family Court) की स्थापना की गई है।

Tax Law !

इसके अंतर्गत सभी प्रकार के टैक्स जैसे- बिक्री कर (Sale Tax), सेवा कर (Service Tax), आदि से सम्बन्धित समस्या का समाधान किया जाता है।

Banking Law !

बैंकिंग Law में लोन, लोन रिकवरी, बैंकिंग विशेषज्ञ आदि से सम्बन्धित कार्यों का समाधान किया जाता है। एल एल बी पाठ्यक्रम के इस विषय में बैंकिंग और उससे सम्बन्धित नियम और कानून का अध्ययन करवाया जाता है।

इंटर्नशिप( प्रशिक्षण) करें!

अब लॉ की पढ़ाई के बाद सबसे आवश्यक चीज है! Internship करना! इंटर्नशिप के दौरान आपको  वकालत से संबंधित चीजों की अनेक चीजों की जानकारी दी जाती है जो भी किसी lawyer के लिए आवश्यक हैं उन सभी चीजों का ज्ञान इंटर्नशिप के दौरान आपको दिया जाता है।

State Bar council के लिए enrollment करें! 

दोस्तों इंटर्नशिप पूरी करने के बाद आपको Bar council of India में जाकर all india Bar examination (AIBA) के लिए अप्लाई करना होता है! दोस्तों यह AIBA एग्जाम साल में दो बार लिया जाता है तथा समय एवं डेट को Bar काउंसिल ऑफ इंडिया द्वारा निर्धारित किया जाता है!

इस एग्जाम में Bar काउंसिल ऑफ इंडिया द्वारा निर्धारित किए गए law से संबंधित प्रश्न पूछे जाते हैं!

परीक्षा में यदि Advocate पास हो जाता है हैं तो उन्हें प्रैक्टिस का सर्टिफिकेट प्राप्त हो जाता है! तो दोस्तों इस तरह आपने जाने की Advocate की पढ़ाई कैसे की जाती है।

वकील बनने के लिए आवास्यता !

  • दिमाग तेज और सक्रिय होना चाइए
  • सोचने और समझने की छयमता तेज होना चाइए
  • बोलने में माहिर होना चाइए
  • याददास्त तेज होना चाइए
  • मुश्किलों का सामना हिम्मत से करने वाला होना चाइए

Sarkari Vakil Salary !

वकील की Service सरकारी Service नहीं होती है। यह सरकार से किया गया एक Agreement होता है। इसमें हर केस की अलग -अलग LLB Ki Fees निर्धारित होती है और इन केस को लड़ने के लिए यह वकील मोठे रकम फ़ीस लेते है। सामान्य तौर पर सरकारी वकील कि Salary 25,000 से 35,000 हो सकती है तथा अनुभव प्राप्त होने पर सैलरी बढ़ भी जाती है।

Conclusion :-

उम्मीद है यह जानकारी आपको पसंद आई होगी! यदि आपका इस लेख से संबंधित कोई भी प्रश्न या सुझाव है तो आप कमेंट कर अपने विचारों को हम तक पहुंचा सकते हैं।

साथ ही इस लेख को शेयर करें ताकि अन्य लोग भी आपकी सहायता से एडवोकेट बनने की इस प्रक्रिया को जान पाएं! Thanks For Visiting Tagifind.com

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here